Ads (728x90)



कई सारी हिन्‍दी कविताओं में चन्‍द्रमा को सुन्‍दरता का प्रतीक माना जाता हैै चन्‍द्रमा अपनी कलाओं के अधार पर पन्‍द्रह-पन्द्रह दिन के हिसाब से घटता और बढता रहता है जिसकी वजह से पूर्णिमा और अमावस्‍या होते हैं आइये जानते हैं एेेसा क्‍यों

 Chan‍drama Ka Aakar Ghatata Badhata Kyon Dikhaee Deta Hai

चन्‍द्रमा का आकार घटता बढ़ता क्यों दिखाई देता है - Chan‍drama Ka Aakar Ghatata Badhata Kyon Dikhaee Deta Hai

चन्‍द्रमा पृ‍थ्‍वी के चारों ओर परिक्रमा करता हैै और साथ ही अपनी धुरी पर भी घूमता रहता है जिसकी वजह से चन्‍द्रमा का एक ही हिस्‍सा सदैव धरती के सामने रहता है चूॅकिं चंंद्रमा में अपना कोई प्रकाश नहींं है वह हमेशा सूर्य के प्रकाश से ही प्रकाशमान होता है पृथ्‍वी का चक्‍कर लगाते समय चन्‍द्रमा का जो भाग सूर्य के सामने होता है चन्‍द्रमा का वही भाग हमें चमकता हुआ दिखाई देता है और बाकी भाग में अंधेरा होता है जो काले आकाश में दिखाई नहींं देता है यही कारण है कि चन्‍द्रमा का आकार घटता बढता क्‍यो दिखाई देता है



हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment