Ads (728x90)



आपने अक्‍सर देखा होगा कि जब हम कभी पानी से भरे किसी पात्र में तेल की कुछ बूॅदें डाल देते हैं तो वह बूँदें पानी के ऊपर तैरने लगती है पर क्‍या आपने कभी सोचा है कि जब तेल पानी से भारी हेाता है तो यह पानी के ऊपर कैसे तैर लेता है अगर नहीं तो आइये जानते हैं तेल पानी पर क्‍यों तैरता है - why does oil float on water

तेल पानी पर क्‍यों तैरता है - why does oil float on water

जब काई बस्‍तु पानी के ऊपर तैरती है तो उसका धनत्‍व पानी के धनत्‍व से कम होता है दरअसल तेल के अणुओं की सघनता पानी की अणुओं की सघनता से कम होती है। दूसरी वजह है ये तेल और पानी आपस में अविलेय है, मतलब ये कभी भी घुल या मिल नहीं सकते हैं ये दोनो आपस में घुलते नहीं है, अगर हम इन्हें काफी जोर से हिलाएं या मिलाने की कोशिश कर लें, थोड़ी देर बाद पानी और तेल अलग हो जाते है इसलिए वह पानी के ऊपर तैरता है 
वहीं अगर दूसरी तरह से देखें तो पानी के अणु(Water molecules) धुर्वीय(Polar) होते है पानी के अणु के एक सिरे पर धनात्मक आवेश(Positive charge) होता है और एक सिरे पर ऋणात्मक आवेश(Negative charge) होता है इसी वजह पानी के अणु एक दूसरे से चिपक जाते है जबकि तेल(डीजल, पेट्रोल, कैरोसिन आदि) के अणु गैर-धुर्वीय(Non-polar) होते है इसीलिए तेल और पानी के अणु एक दूसरे के प्रति आकर्षित नही होते तो अब आप समझ गये होंगे कि तेल पानी के ऊपर क्‍यों तैरता है  

Tag - Oil and Water, Mix It Up with Oil and Water, why does oil float on water surface tension, why oil floats on water in hindi, 



हमें सोशल मीडिया पर फॉलों करें - Facebook, Twitter, Google+, Pinterest, Linkedin, Youtube
हमारा ग्रुप जॉइन करें - फेसबुक ग्रुप, गूगल ग्रुप अन्‍य FAQ पढें हमारी एड्राइड एप्‍प डाउनलोड करें

Post a Comment